Hindi Literature

सावधान: आपने सत्रारंभ नहीं किया है। यदि आप सम्पादन करते हैं तो इस पृष्ठ के संपादन इतिहास में आपका आइ॰पी पता अंकित किया जाएगा। यदि आप लॉगिन करते हैं अथवा खाता बनाते हैं तो अन्य सुविधाओं के साथ-साथ आपके संपादनों का श्रेय आपके सदस्यनाम पर दिया जाएगा।

यह संपादन पूर्ववत किया जा सकता है। ऐसा करने के लिये कृपया निम्नलिखित पाठ को ध्यान से देखकर बदलाव संजोयें।

सद्य अवतरण आपका पाठ
पंक्ति ५: पंक्ति ५:
 
}}
 
}}
   
  +
[[रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 2|<< पिछला भाग]]
 
[[रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 2|<< द्वितीय सर्ग / भाग 2]] | [[रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 4| द्वितीय सर्ग / भाग 4 >>]]
 
   
   
पंक्ति १६: पंक्ति १५:
   
 
कर्ण सजग है, उचट जाय गुरुवर की कच्ची नींद नहीं।
 
कर्ण सजग है, उचट जाय गुरुवर की कच्ची नींद नहीं।
  +
  +
   
   
पंक्ति २५: पंक्ति २६:
   
 
और रात-दिन मुझ पर दिखलाने रहते ममता कितनी।
 
और रात-दिन मुझ पर दिखलाने रहते ममता कितनी।
  +
  +
   
   
पंक्ति ३४: पंक्ति ३७:
   
 
सूख जायगा लहू, बचेगा हड्डी-भर ढाँचा तेरा।
 
सूख जायगा लहू, बचेगा हड्डी-भर ढाँचा तेरा।
  +
  +
   
   
पंक्ति ४३: पंक्ति ४८:
   
 
इस प्रकार तो चबा जायगी तुझे भूख सत्यानाशी।
 
इस प्रकार तो चबा जायगी तुझे भूख सत्यानाशी।
  +
  +
   
   
पंक्ति ५२: पंक्ति ५९:
   
 
कर लेना घनघोर तपस्या वय चतुर्थ के आने पर।
 
कर लेना घनघोर तपस्या वय चतुर्थ के आने पर।
  +
  +
   
   
पंक्ति ६३: पंक्ति ७२:
   
   
  +
[[रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 2|<< द्वितीय सर्ग / भाग 2]] | [[रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 4| द्वितीय सर्ग / भाग 4 >>]]
 
  +
[[रश्मिरथी / द्वितीय सर्ग / भाग 4|अगला भाग >>]]

Please note that all contributions to the Hindi Literature are considered to be released under the CC-BY-SA

रद्द करें सम्पादन सहायता (नई विंडो में खुलता है)

इस पृष्ठ पर प्रयुक्त साँचे: