FANDOM

१२,२७७ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER


इस क़दर अपने से डर था

कि

चेहरा ही नहीं देखा

तनहाई ने फिर

भीड़ में रह-रह के रुलाया था

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.