FANDOM

१२,२७२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER

लबों पे रेत हाथों में गुलाब

और कानों में किसी नदी की काँपती सदा

ये सारी अजनबी फ़िज़ा

मेरे बदन के आस-पास आज कौन है।

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.