FANDOM

१२,२७७ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER


फिर उदासी की दरारों से

कोई झाँकेगा

कहेगा

आँख धो लो

जल्द ही सूरज को आना है ।

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.