FANDOM

१२,२७७ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER


उठो

आधी रात

फिर ज़िन्दगी को ढूँढने चलें

बार-बार फ़िसल जाती है हाथों से

छटपटाती

ज़िन्दा मछली की तरह

साँसों की तलाश में

भीड़ों के अँधेरे सागर में


भीड़ जो बरसों से अकेलेपन की परिचायक है

और हथेलियाँ जहाँ

रिसने लगता है नेह गाँठों के बीच से

बुझने लगते हैं दिये


घुटने लगता है दम

न इस करवट चैन

न उस करवट

करवटें बदलते

यूँ ही कटती है ज़िन्दगी

कि ये ऊँट भी न जाने किस करवट बैठे

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.