FANDOM

१२,२७७ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER


अंधेरे में अचानक

सुंदर हो उठता है कमरा

सपाट हो जाती हैं दरारें

दीवारों की ।

चमकते हैं शेल्फ़ बिल्लौरी

और उन पर सजे हुए

स्फटिक

बिखेरते हैं अपनी किरनें

अंधेरे में ।

किताबें अचानक

नयी हो उठती हैं बिल्कुल

सजी हुई तरतीब से

बीच-बीच में उन्हें रोकने वाली

ख़ूबसूरत टेकों के साथ ।

सज जाते हैं फूल और मूर्तियाँ

आलों पर

खिड़की को पार कर

आने लगती है

नयी हवा ।

भय लगता है

कोई जला न दे रौशनी

और सपनों का यह शीश महल

बिखर जाये पल भर में ।

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.